Search This Blog

Sunday, October 18, 2015

मौत आती मेरे पीछे



मौत आती  मेरे पीछे 


मौत आती  मेरे पीछे
ज़िन्दगी मेरे पीछे पीछे।।

अगर कहीं मैं जी गया
कहीँ बुढ़ापा देख लिया
नाना बनकर कहानियाँ सुनाई
बचपन कहीँ मेरा लौट आया।
मौत आती मेरे पीछे
ज़िन्दगी मेरे पीछे पीछे।।

आतंकवादी  मेरे पीछे
गोले हथगोले मेरे पीछे
कट्टरपंथी मेरे पीछे
कट्टा- पत्थर मेरे पीछे।
मौत आती मेरे पीछे
ज़िन्दगी मेरे पीछे पीछे।।

नन्हे - बूढ़े चले संग संग
बारूदी सुरंग करे रंग भंग
मैं बेचारा जग का प्यारा
फूलो से भी डरा डरा
अपनों से ही अब टक्कर
कैसा है ये अब चक्कर।
मौत आती मेरे पीछे
ज़िन्दगी मेरे पीछे पीछे।।

काश कहीँ मैं जी गया
हरी का नाम कुछ जप लिया
क्या कुछ जाने मैंने खोया
मरकर जी कर न पाया
ईश्वर अल्लाह की साया
शीतल तरुवर मनोरम छाया।
मौत आती मेरे पीछे
ज़िन्दगी मेरे पीछे पीछे।।

No comments:

Post a Comment